Current Date:08 Dec 2022





रिश्वतखोरी के आरोप में पुलिस आरक्षक गिरफ्तार... भ्रष्टाचार के खिलाफ राज्य सरकार सख्त

रिश्वतखोरी के आरोप में पुलिस आरक्षक गिरफ्तार

रिश्वतखोरी के आरोप में पुलिस आरक्षक गिरफ्तार... भ्रष्टाचार के खिलाफ राज्य सरकार सख्त


यूपी। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार  भ्रष्ट अफसरों और कर्मचारियों के खिलाफ रिश्वतखोरी के मामले में सख्त नजर आ रही है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्पष्ट कहा है कि कोई भी भ्रष्ट अधिकारी और कर्मचारी बक्शा नहीं जाएगा. इस के बावजूद भी उत्तर प्रदेश पुलिस के रिश्वतखोरी को लेकर कई मामले सामने आ चुके हैं. लगातार पुलिसकर्मियों और पुलिस अधिकारियों की रिश्वतखोरी की ऑडियो वायरल हो रहे हैं. इस कड़ी में अब बरेली  जनपद के थाना फतेहगंज पश्चिम के एक आरक्षक का ऑडियो वायरल हो रहा है. इसमें सिपाही स्मैक तस्कर को बचाने के लिए दस लाख की मांग कर रहा है. बरेली के एसएसपी के आदेश पर आरोपी आरक्षक पर भ्रष्टाचार की रिपोर्ट दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है और आरक्षक को जेल भेज दिया है.


दरअसल बरेली के थाना फतेहगंज पश्चिमी तैनात एक आरक्षक अमरदीप का सोशल मीडिया पर एक ऑडियो वायल हुआ है. उसमें फतेहगंज पश्चिमी थाने में तैनात आरक्षक अमरदीप स्मैक तस्कर सोनू कालिया से बातचीत कर रहा है. सोनू कालिया मीरगंज से स्मैक तस्करी में वांछित है और उसके खिलाफ वारंट भी जारी हो चुका है. कुछ समय पहले ही उस पर फतेहगंज पश्चिमी में भी एनडीपीएस की रिपोर्ट दर्ज की गई है. उस मामले में आरक्षक ने उसे बचाने की बात कहते हुए उससे 10 लाख रुपये की मांग की.


पुलिस आरक्षक अमरदीप का कहना है कि यह रुपया अधिकारियों तक जाता है. सोनू कालिया का कहना है कि वह दो लाख रुपये दे सकता है. इस पर जब सिपाही नहीं माना तो सोनू ने कहा की ठीक है वांछित कर दो. और फिर फोन कट गया. इसकी जानकारी बरेली के एसएसपी रोहित सिंह सजवाण को हुई तो उन्होंने आरोपी सिपाही के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत रिपोर्ट दर्ज कराकर उसे निलंबित करने के बाद गिरफ्तार कर लिया, और सिपाही को जेल भेजा जा रहा है.पुलिस आरक्षक की गिरफ्तारी के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है