कोरोना वायरस को लेकर आपके काम की ख़बर, जागरूक रहें- स्‍वस्‍थ रहें

रक्षेन्द्र प्रताप सिंह : 11-04-20 11:06:04

सूरजपुर (रक्षेन्द्र प्रताप सिंह) - अगर आप कोरोना वायरस को लेकर व्हाट्स एप यूनिवर्सिटी की खबरों को लेकर भ्रमित हो रहें हैं तो ये ख़बर आपके काम की है.                                  

क्या है वायरस - 

विषाणु (virus) अकोशिकीय अतिसूक्ष्म जीव हैं जो केवल जीवित कोशिका में ही अपना वंश वृद्धि कर सकते हैं.
विषाणु बिना किसी सजीव माध्यम के पुनरुत्पादन नहीं कर सकता है। यह सैकड़ों वर्षों तक सुसुप्तावस्था में रह सकता है। जब भी एक जीवित मध्यम या धारक के संपर्क में आता है उस जीव की कोशिका को भेद कर आच्छादित कर देता है और जीव बीमार हो जाता है। एक बार जब विषाणु जीवित कोशिका में प्रवेश कर जाता है, वह कोशिका के मूल आरएनए एवं डीएनए की संरचना को अपनी जेनेटिक सूचना से बदल देता है और संक्रमित कोशिका अपने जैसे संक्रमित कोशिकाओं का पुनरुत्पादन शुरू कर देती है।

 कोरोना वायरस क्या है - 

कोरोनावायरस (Coronavirus) कई प्रकार के विषाणुओं (वायरस) का एक समूह है जो स्तनधारियों और पक्षियों में रोग उत्पन्न करता है। यह आरएनए वायरस होते हैं। इनके कारण मानवों में श्वास तंत्र संक्रमण पैदा हो सकता है जिसकी गहनता हल्की (जैसे सर्दी-जुकाम) से लेकर अति गम्भीर (जैसे, मृत्यु) तक हो सकती है। गाय और सूअर में इनके कारण अतिसार हो सकता है जबकि इनके कारण मुर्गियों के ऊपरी श्वास तंत्र के रोग उत्पन्न हो सकते हैं। इनकी रोकथाम के लिए कोई टीका (वैक्सीन) या विषाणुरोधी (antiviral) अभी उपलब्ध नहीं है और उपचार के लिए प्राणी की अपने प्रतिरक्षा प्रणाली पर निर्भर करता है। अभी तक रोगलक्षणों (जैसे कि निर्जलीकरण या डीहाइड्रेशन, ज्वर, आदि) का उपचार किया जाता है ताकि संक्रमण से लड़ते हुए शरीर की शक्ति बनी रहे। 

Covid 19 वायरस - 

चीन के वूहान शहर से उत्पन्न होने वाला 2019 नोवेल कोरोनावायरस इसी समूह के वायरसों का एक उदाहरण है, जिसका संक्रमण सन् 2019-20 काल में तेज़ी से उभरकर 2019–20 वुहान कोरोना वायरस प्रकोप के रूप में फैलता जा रहा है। हाल ही में WHO ने इसका नाम COVID-19 रखा। कोरोना का अर्थ मुकुट होता है और इस वायरस के कणों के इर्द-गिर्द उभरे हुए कांटे जैसे ढाँचों से इलेक्ट्रान सूक्षमदर्शी में मुकुट जैसा आकार दिखता है, जिस पर इसका नाम रखा गया था। 

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस से बचाव के लिए शासन द्वारा किये जा रहे उपायों की राष्ट्र स्तर पर सराहना की जा रही है. छत्तीसगढ़ राज्य में इस घातक बीमारी से ग्रस्त 10 मरीज रोग मुक्त हो चुके हैं जबकि हाल ही में मिले 8 मरीजों का इलाज जारी है. वहीं राज्य सरकार ने अब घर से बाहर निकलने पर मुँह और नाक को मास्क या गमछे से ढँकना अनिवार्य कर दिया है. जबकि संपूर्ण राष्ट्र में लॉक डाउन जारी है.



add