मुख्यमंत्री दीदी किचन योजना के तहत... 5453 दीदी किचन द्वारा रोजाना लगभग 4 लाख लोगों को कराया जा रहा है भोजन

hindustan path : 14-04-20 08:10:04

रांची। कोविड-19 के संक्रमण से बचने हेतु जारी लॉक डाउन के वजह से लोगों के बीच खाने की किल्लत से निपटने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा मुख्यमंत्री दीदी किचन योजना की शुरुआत की गई। इसके तहत विभिन्न जिलों में 5,453 दीदी किचन कार्य कर रहे हैं। प्राप्त आंकड़ों के अनुसार 3,96,880 लोगों को 24 घंटे के अंदर खाना खिलाया गया है। वहीं मुख्यमंत्री दीदी किचन द्वारा रोजाना लगभग इतने ही लोगों को भोजन कराने का कार्य किया जा रहा है। भोजन कराने के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग और स्वच्छता का पूरा ध्यान भी रखा जा रहा है। राज्य सरकार द्वारा लोगों की सहायता के लिए खाद्य, सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामले विभाग, द्वारा  लोगों तक विभिन्न योजनाओं के तहत  राशन एवं खाना पहुँचने का कार्य किया जा रहा है। विभाग द्वारा  प्राप्त आंकड़ो के अनुसार अब तक 1,52,772 लोगों तक अनाज पहुंचा दिया गया है। वहीं नन पीडीएस के तहत 1,79,22 लोगों तक अनाज उपलब्ध करा दिया गया है। दाल भात के विभिन्न योजनाओं में अब तक 42,79,286 लोगों को खाना खिलाया जा चुका है।  एन जीओ एवं वोलेंटियर  टीम द्वारा 20,57,430 लोगों को खाना खिलाया जा चुका है। प्रवासी मजदूरों के लिए राहत कम्पों में 1,42,742 मजदूरों को खाना खिलाया जा रहा है। साथ ही आकस्मिक राहत पैकेट का वितरण भी जरूरतमंदों के बीच किया जा रहा है। अबतक 40,327 लोगों तक विशेष राहत सामग्री के पैकेट पहूँचाये गए हैं। 

राज्य सरकार द्वरा 7,735 जगहों पर फंसे 4,22,325 मजदूरों के खाने एवं रहने की व्यवस्था की गई।

राज्य के बाहर फंसे झारखंडवाशियों की मदद हेतु श्रम, नियोजन एवं प्रशिक्षण विभाग, झारखंड सरकार द्वरा नेपाल हॉउस रांची में चलाये जा रहे राज्य स्तरीय कोविड-19 रिस्पांस टीम के नियंत्रण कक्ष में अभी तक  26,320 कॉल आये जिसमें लॉक डाउन की वजह से देश के विभिन्न राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में झारखंड के  8,54,368 लोगों के फंसे होने की सूचना प्राप्त हुई है। जिनमें से 10,211 जगाहों पर 5,34,573 प्रवासी मजदूरों के फंसे होने की भी जानकारी प्राप्त हुई है।  अब तक सरकार द्वरा 7,735 जगहों पर फंसे 4,22,325 मजदूरों के खाने एवं रहने की व्यवस्था कर दी गयी है। सभी लोगों के संबंध में पूरी जानकारी जुटाई जा रही है, ताकि उन तक हर स्तर से मदद पहुंचाई जा सके।

181 पर सम्पर्क करने के बाद हज़ारीबाग़ के प्रेमचंद्र गोसाई को 10 किलो राशन उपलब्ध कराया गया

राज्य स्तरीय कोरोना नियंत्रण केंद्र में कोविड -19 से संबंधित किसी भी तरह की सहायता हेतु टॉल फ्री नम्बर 181 पर सम्पर्क किया जा रहा है। आज इसी क्रम में हज़ारीबाग़ जिले के बरकट्ठा निवासी प्रेमचंद्र गोसाई को खाने की किल्लत हो रही थी जिसपर नियंत्रण केंद्र द्वारा हज़ारीबाग़ जिला आपूर्ति पदाधिकारी से संपर्क स्तापित किया गया। जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने मुखिया से संपर्क कर प्रेमचंद्र गोसाई को 10 किलो राशन उपलब्ध कराया।  राज्य स्तरीय कोरोना नियंत्रण केंद्र में कोविड -19 से संबंधित अभी तक  कुल 13,435 मामले आये जिनमें से 8,383 मामलों पर सहायता उपलब्ध कराई जा चुकी है । शेष बचे मामलों पर हर संभव कार्रवाई की जा रही है। नियंत्रण केंद्र में खाद्य आपूर्ति से संबंधित  5,816, विधि व्यवस्था से संबंधित 633, चिकित्सा से संबंधित 662, झारखंड में फंसे व्यक्ति से संबंधित 651 एवं अन्य 621 शिकायतों का समाधान किया जा चुका है।

राज्य में  कोविड-19 के  2,523 संदिग्धों के सैंपल में 24 का टेस्ट पॉजिटिव

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव सोशल डिस्टेन्सिंग से ही सम्भव है।  घर पर रह कर ही इस बीमारी के संक्रमण से बचा जा सकता है। स्वास्थ्य विभाग के रिपोर्ट के अनुसार अभी तक  राज्य में 2,523 लोगों का कोविड-19 टेस्ट लिया गया जिसमें से 24 पॉजिटिव पाए गये एवं 1,963 लोगों का टेस्ट नेगेटिव आया वहीं 536 लोगों का टेस्ट अभी प्रतीक्षा में है। पॉजिटिव पाए गए लोगों मे 9 बोकारो, 2 हज़ारीबाग़, 1 गिरिडीह, 1 कोडरमा एवं 11 राँची के हैं। कोरोना से बचाव के लिए राज्य में 3,771 क्वॉरेंटाइन सेंटर कार्य कर रहे हैं, जिसमें 12,633 लोगों को क्वॉरेंटाइन किया जा रहा है। वहीं 1,00,844 लोग होम क्वॉरेंटाइन में रह रहे हैं । अभी तक 83,344 लोगों ने अपना क्वॉरेंटाइन पूरा कर लिया है।




add