शहीद चंदन का पार्थिव शरीर आरा पहुंचते ही लगे भारत माता की जय के नारे, पैतृक गांव में होगा अंतिम संस्कार

hindustan path : 19-06-20 10:40:06

भोजपुर. लद्दाख के गलवन घाटी में चीन के साथ हुई भिड़ंत में शहीद हुए भोजपुर के दिवंगत सैनिक चंदन कुमार का शव उनके पैतृक गांव जगदीशपुर प्रखंड के ज्ञानपुरा गांव पहुंच चुका है. शुक्रवार को चंदन के पैतृक गांव में है उनकी अंत्येष्टि की जाएगी. चंदन  के शव के पहुंचने से पहले ही पूरा गांव भारत माता की जय और वीर चंदन अमर रहे जैसे नारों से गूंज उठा. भारी संख्या में लोगों ने शहीद की अंतिम यात्रा में शामिल होते हुए उनके सम्मान में नारे लगाए.

लोगों ने सम्मान में निकाली तिरंगा यात्रा

तिरंगे में लिपटा जैसे ही चंदन का शव उनके गांव पहुंचा पूरा माहौल गमगीन हो गया. गुरुवार की रात से ही चंदन का परिवार समेत पूरा गांव उनके शव आने का इंतजार कर रहा था लेकिन प्रतिकुल मौसम के कारण उनका शव शुक्रवार को गांव पहुंचा. शहीद के सम्मान में स्थानीय लोगों ने तिरंगा यात्रा भी निकाली . आरा के हित नारायण क्षत्रिय स्कूल से पढ़ाई करने वाले चंदन के सम्मान में पूरे जिले के लोग उनका पार्थिव शरीर आने का इंतजार कर रहे थे.

पीएम से कार्रवाई की मांग

कोईलवर पुल पर उनके शव को भोजपुर जिला प्रशासन ने रिसीव किया जिसके बाद उनके शव को गांव भेजा गया. चंदन की शहादत के बाद से पूरे गांव समेत जिले के लोगों ने चीन के प्रति खासा आक्रोश है और सभी लोग पीएम नरेंद्र मोदी से मुंहतोड़ जवाब देने की मांग कर रहे हैं. इससे पहले गम और गुस्से के कारण गांव के घरों में गुरुवार को चूल्हा तक नहीं जला. सभी लोगों को अपने वीर सपूत के खोने का गम सता रहा था तो वहीं देश की खातिर जान न्योछावर करने पर गर्व भी हो रहा था.

गांव में ही होगा अंतिम संस्कार

शहीद के चचेरे भाई सत्येंद्र कुमार ने बताया कि चंदन का अंतिम संस्कार गांव में ही किया जाएगा. इससे पहले भोजपुर के डीएम रोशन कुशवाहा और एसपी सुशील कुमार ने दल बल के साथ गुरुवार को उनके गांव पर जाकर वस्तुस्थिति का जायजा लिया था. इस दौरान एसपी ने परिजनों से मिलकर उनका ढाढस भी बंधाया. एसपी-डीएम के अलावा जिले के कई छोटे-बड़े नेता भी चंदन के परिवार को सांत्वना देने उनके गांव पहुंचे.




add