बाबुलाल हत्याकांड का खुलासा...पुलिस ने आरोपी पत्नी व प्रेमी को किया गिरफ्तार ...एक आरोपी फरार...आरोपीयो के तार क्षेत्र के दिग्गज सत्ताधारी नेताओ से जुङे..!

hindustan path : 29-06-20 10:56:06

सूरजपुर- भटगांव थाना क्षेत्र मे आज तीन माह पहले हुए हत्या के आरोपीयो को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, जिनमे दो आरोपी पुलिस गिरफ्त मे है लेकिन एक आरोपी फरार है, दरअसल पुरा मामला 28 मार्च का है जहां बंशीपुर निवासी बाबुलाल कि संदीग्ध हालत मे बंशीपुर गांव मे एक नहर किनारे लाश मिली थी, जहां पोस्टमार्टम रिपोर्ट मे गला दबाकर हत्या करने कि पुष्टी होने के बाद पुलिस के लिए पूरा मामला चुनौती बना हुआ था, ऐसे मे एस पी सूरजपुर राजेश कुकरेजा के मार्गदर्शन मे भटगांव पुलिस हर स्तर पर जांच में जुटी हुई थी, जहां पुलिस को बाबुलाल कि पत्नी पर शक हुआ और उससे लगातार पुछताछ करने के बाद आखिरकार अंधेकत्ल का पुरा राज खुल गया, जिसे सुनने के बाद पुलिस भी हैरत मे पङ गई,

अंधे कत्ल का खुलासा,

दरअसल एस.ई.सी.एल मे कार्यरत बाबुलाल कि उम्र साठ साल हो चुकी थी, जहां उसकी तीसरी पत्नी सागरमति अपने पति से 20 साल छोटी थी, जिस कारण बाबुलाल अपनी पत्नी को भौतिक सुख नही दे पाता था, ऐसे मे आरोपी पत्नी अपने सुख के लिए पिंटु मिश्रा के साथ संपर्क मे आई और अवैध संबध दोनो के बीच शुरु हो गया ,इसी बीच पिंटू मिश्रा का दोस्त सीताराम यादव जो कि जरही नगर पंचायत के दिग्गज कांग्रेसी नेता और एल्डरमैन का भाई है इन तीनो ने मिलकर बाबुलाल को रास्ते से हटाने कि योजना बनाई, और कई बार कोशिश भी किया, लेकिन हर बार नाकामयाब रहे ,ऐसे मे 27 मार्च के शाम कांग्रेसी नेता का भाई सीताराम यादव और पिंटु मिश्रा मृतक बाबुलाल को घर से बाहर बुलाया और साथ मे शराब पीए, जिसके बाद ताश खेलने के लिए उसे एक सुनसान जगह पर ले गए, जहां गला दबाकर उसकी हत्या कर लाश को नहर किनारे फेंक दिया , पूरे मामले मे तीनो आरोपीयो का प्लान था कि मृतक कि मौत प्राकृतिक लगे, साथ ही सत्ताधारी दलो के साथ पिंटु मिश्रा और सीताराम यादव कि खास पैंठ होने के कारण आरोपीयो ने सोचा कि हत्या कि किसी को भनक नही लगेगी, क्योंकि कुछ दिन पहले ही सोनगरा जंगल के समीप एक वृद्ध कि ज्यादा ठंड लगने से मौत हो चुकी थी, लिहाजा तीनो आरोपीयो ने सोचा इस हत्या मे भी ऐसा ही कुछ होगा, जहां आरोपी पत्नी कि सोच थी कि मृतक बाबुलाल कि मौत के चार दिन बाद ही रिटायर होना है, ऐसे मे उसे नौकरी और मोटी रकम भी मिल जाएगी,जिससे प्रेमी पिंटू मिश्रा को चार पहिया वाहन गिफ्ट कर सके ,  लेकिन पुलिस कि सक्रियता से ना तो राजनितिक रसुख उन्हे बचा पाई और ना ही उनका षडयंत्र काम आया ,फिलहाल आरोपी पत्नी और पिंटु मिश्रा जेल कि सलाखो के पीछे है, और तीसरा रसुखदार फरार आरोपी सीताराम कि तलाश मे पुलिस जुटी हुई है,

पूरे खुलासे मे ये रहे सक्रिय

अंधेकत्ल के खुलासे मे एस डी ओ पी ओङगी मंजुलता बाज व भटगांव थाना प्रभारी किशोर केवट कि भुमिका अहम रही ,वही प्रधान आरक्षक संजय चौहान, राजेश यादव, आरक्षक रजनीश पटेल ,मनोज जायसवास, नौशाद,कमलेश सिंह महिला आरक्षक सरिता कुजुर,आशा लकङा समेत थाना स्टाफ सक्रिय भुमिका मे रहे



add