Current Date:03 Mar 2021

आज से वाहनों पर FASTag हुआ अनिवार्य, नहीं लगाने पर देना होगा जुर्माना, जानें इसके बारे में सबकुछ..

सोमवार (15 फरवरी 2021) से सभी टोल पर फास्टैग (FASTag) अनिवार्य हो गया है. यानी आज से अगर आपके वाहन में फास्टैग नहीं लगा होगा तो आपको टोल प्लाजा पार करने के लिए दोगुना टोल टैक्स या जुर्माना देना होगा.फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक है. इसमें रेडियो फ्रीक्वें

आज से वाहनों पर FASTag हुआ अनिवार्य, नहीं लगाने पर देना होगा जुर्माना, जानें इसके बारे में सबकुछ..
नई दिल्ली. सोमवार (15 फरवरी 2021) से सभी टोल पर फास्टैग  अनिवार्य हो गया है. यानी आज से अगर आपके वाहन में फास्टैग नहीं लगा होगा तो आपको टोल प्लाजा पार करने के लिए दोगुना टोल टैक्स या जुर्माना देना होगा. बता दें कि यह नई व्यवस्था टू-व्हीलर्स के लिए नहीं है. हाल ही में फास्टैग को रिचार्ज कराने में आ रही दिक्कतों को भी भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने दूर कर लिया है. अगर किसी वाहन का फास्टैग एकाउंट रिचार्ज नहीं है तो वाहन चालक टोल पर इसे रिचार्ज करा पाएंगे. रिचार्ज तीन मिनट में होने की बात NHAI तैयारी कर रहा है. ऐसे में आपने अगर अभी तक अपनी कार में फास्टैग नहीं लगाया है तो यह काम जल्द से जल्द करवा लें. आइए जानते हैं इसके बारे में सबकुछ-


क्या है FASTag?
फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक है. इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) का इस्तेमाल होता है. फास्टैग रिचार्ज होने वाला प्रीपेड टैग है जो आपको अपनी गाड़ी के विंडशील्ड पर अंदर की तरफ से लगाना पड़ता है.
FASTag कैसे करता है काम?
जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास आती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंडस्क्रीन पर लगे फास्टैग को ट्रैक कर लेता है. इसके बाद आपके फास्टटैग अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क कट जाता है. इस तरह आप टोल प्लाजा पर रुके बगैर शुल्क का भुगतान कर पाते हैं. वाहन में लगा यह टैग आपके प्रीपेड खाते के सक्रिय होते ही अपना काम शुरू कर देगा. वहीं, जब आपके फास्टैग अकाउंट की राशि खत्म हो जाएगी, तो आपको उसे फिर से रिचार्ज करवाना पड़ेगा.


FASTag रिचार्ज कैसे करें?
यदि फास्टटैग NHAI प्रीपेड वॉलेट से जुड़ा है, तो इसे चेक के माध्यम से या यूपीआई/डेबिट कार्ड/क्रेडिट कार्ड/NEFT/नेट बैंकिंग आदि के माध्यम से रिचार्ज किया जा सकता है. अगर बैंक खाते को फास्टटैग से लिंक होता है, तो पैसे सीधे खाते से काट लिया जाता है. अगर Paytm वॉलेट को फास्टटैग से लिंक होता है, तो पैसे सीधे वॉलेट से काट लिया जाता है.
FASTag वाॅलेट में कम बैलेंस होने पर क्या होगा?
FASTag वाॅलेट में मिनिमम बैलेंस होने पर भी आप टोल पार कर सकेंगे. हाल ही में €NHAI ने फास्टैग जारी करने वाले बैंकों से कहा है कि वे सिक्योरिटी डिपॉजिट के अलावा कोई मिनिमम बैलेंस रखना अनिवार्य नहीं कर सकते हैं. पहले विभिन्न बैंक फास्टैग में सिक्योरिटी डिपोजिट के अलावा मिनिमम बैलेंस रखने के लिए भी कह रहे थे. कोई बैंक 150 रुपये तो कोई बैंक 200 रुपये का मिनिमम बैलेंस रखने को कह रहे थे. मिनिमम बैलेंस होने की वजह से कई FASTag उपयोगकर्ताओं को अपने FASTag खाते/वॉलेट में पर्याप्त शेष होने राशि के बाद भी एक टोल प्लाजा से गुजरने की अनुमति नहीं मिलती थी.
क्या हम एक फास्टटैग का उपयोग दो या अधिक वाहनों के साथ कर सकते हैं?
नहीं, दो वाहनों के लिए दो अलग फास्टटैग खरीदना होगा.
FASTag की वैधता क्या है?
FASTag जारी होने की तारीख से फास्टैग की वैधता अगले पांच साल तक की होती है. आपके रिचार्ज की कोई वैधता नहीं होती यानी अगर आपने रिचार्ज के बाद लंबे समय तक नेशनल हाईवे पर यात्रा नहीं की तो यह रिचार्ज फास्टैग की वैधता तक वैध रहेगा.
FASTag कुल टोल कलेक्शन का 80 फीसदी
देश भर में 2.54 करोड़ से अधिक फास्टैग के यूजर हैं. हाइवे पर FASTag कुल टोल कलेक्शन का 80 फीसदी योगदान देता है। इस समय FASTag के माध्यम से डेली टोल कलेक्शन 89 करोड़ रुपए को पार कर गया है। गौरतलब है कि 15 फरवरी 2021 से फास्टैग के माध्यम से टोल प्लाजा पर भुगतान अनिवार्य हो जाएगा. ऐसा इसलिए, क्योंकि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण देश भर में टोल प्लाजा पर 100% कैशलेस टोल प्राप्त करने का लक्ष्य बना रहा है.