Current Date:09 May 2021

सरगुजा : बदला लेने के नियत से युवक और उसकी पत्नी पर चलाया था रिवाल्वर से गोली...पिता-पुत्र गिरफ्तार... एक आरोपी अभी भी गिरफ्त से बाहर

निजी वाहन चालक पर गोलीबारी की गुत्थी को सुलझाते हुए गांधीनगर पुलिस ने पिता पुत्र को गिरफ्तार किया है .

सरगुजा : बदला लेने के नियत से युवक और उसकी पत्नी पर चलाया था रिवाल्वर से गोली...पिता-पुत्र गिरफ्तार... एक आरोपी अभी भी गिरफ्त से बाहर
अंबिकापुर. बीते 27 अप्रैल की रात हुए निजी वाहन चालक पर गोलीबारी की गुत्थी को सुलझाते हुए  गांधीनगर पुलिस ने पिता पुत्र को गिरफ्तार किया है . 27 अप्रैल के भगवानपुर के कुशवाहा पारा में वाहन चालुऔर उसकी पत्नी पर गोलीबारी की घटना हुई थी . आरोपी अपनी नातिन की आत्महत्या का बदला लेने के लिए अपने पुत्र और एक अन्य आरोपी के साथ मिलकर जान से मारने की नियत से रिवाल्वर से युवक पर गोली चलाई थी।
गोली युवक के हथेली पर लगते हुए पेट से छू कर निकल गई थी। इससे उसकी जान बच गई। वहीं आरोपियों ने भागने के दौरान युवक की पत्नी पर भी फायरिंग की थी, जो उसे नहीं लगी थी। इस मामले में गांधीनगर पुलिस ने पिता-पुत्र को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। वहीं उनका एक सहयोगी अभी भी फरार है।


27 अप्रैल रात 8.30 बजे पुलिस को सूचना मिली की भगवानपुर खुर्द के कुशवाहा पारा में दो राउंड गोली चल गई है। सूचना मिलते ही थाना प्रभारी अनूप कुमार एक्का वरिष्ठ अधिकारियों को मामले की जानकारी देकर गांधीनगर थाने के स्टाफ के साथ मौके पर रवाना हुए।


मौके पर आहत देव कुमार सिंह ने बताया कि कोई अज्ञात 2 व्यक्ति उसके किराए के घर के पास आए और उसके ऊपर गोली चला दी है जिससे आहत के दाहिने हाथ के अंगूठे एवं पेट के बाएं तरफ गोली लगने से खून निकल रहा है। घायल युवक को तत्काल डायल 112 की मदद से मेडिकल कॉलेज अस्पताल भिजवाया गया एवं आसपास के क्षेत्र में नाकेबंदी करते हुए आरोपियों की पतासाजी की गई।


घायल देव कुमार की पत्नी की रिपोर्ट पर अज्ञात के खिलाफ धारा 307, 34 एवं 25-27 आम्र्स एक्ट कायम कर मामले को विवेचना में लिया गया। पुलिस अधीक्षक टीआर कोशिमा व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुनील शर्मा के दिशा निर्देशन में और नगर पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र साय पैकरा के नेतृत्व में टीम तैयार कर संदेही आरोपियों के पतासाजी हेतु रवाना किया गया।


गोलीकांड में घायल देव कुमार के बताए अनुसार पुलिस ने शहर से लगे ग्राम अजिरमा कालीघाट निवासी 60 वर्षीय गंगाधर विश्वकर्मा एवं उसके 27 वर्षीय पुत्र ओमप्रकाश विश्वकर्मा को हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की तो उन्होंने जुर्म कबूल कर लिया। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इस मामले में तीसरा आरोपी उमाकांत विश्वकर्मा फरार है। पुलिस उसकी खोजबीन में जुटी हुई है। पूछताछ के दौरान आरोपी गंगाधर विश्वकर्मा ने पुलिस को बताया कि उसकी पुत्री आरती विश्वकर्मा किराए के मकान भगवानपुर खुर्द कुशवाहा पारा में निवास करती थी। उसकी नातिन राधा विश्वकर्मा ने कुछ समय पूर्व फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। उसे शक था कि उसके पड़ोस में रहने वाली उर्मिला एवं उसके पति देव कुमार के चलते ही इसकी नातिन ने आत्महत्या की है जिसका बदला लेने के लिए घटना को अंजाम दिया था। मुख्य आरोपी गंगाधर विश्वकर्मा अपने बेटा ओमप्रकाश विश्वकर्मा व उमाकांत विश्वकर्मा तीनों ने भगवानपुर खुर्द कुशवाहा पारा मे आरोपी उमाकांत विश्वकर्मा के बाइक से जा कर दो बार रेकी की। जब उर्मिला और उसका पति देव कुमार घर के बाहर बैठे दिखे तब आरोपी गंगाधर एवं उमाकांत दोनों उसके पास गए एवं आरोपी गंगाधर विश्वकर्मा द्वारा उर्मिला एवं देव कुमार के ऊपर हत्या करने की नियत से फायर  किया गया। फायर करने के बाद तीनों घटनास्थल से बाइक से फरार हो गए।