Current Date:24 Oct 2021





महानवमी आज, करें माँ सिद्धिदात्री की पूजा-अर्चना

हिन्दी पंचांग के अनुसार, आज आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि है। आज 14 अक्टूबर 2021 और दिन गुरुवार है। आज शारदीय नवरात्रि नवमी तिथि है, जिसे दुर्गा नवमी या महानवमी भी कहते हैं।

महानवमी आज, करें माँ सिद्धिदात्री की पूजा-अर्चना


डेस्क : हिन्दी पंचांग के अनुसार, आज आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि है। आज 14 अक्टूबर 2021 और दिन गुरुवार है। आज शारदीय नवरात्रि नवमी तिथि है, जिसे दुर्गा नवमी या महानवमी भी कहते हैं। आज महानवमी के दिन मां सिद्धिदात्री की विधिपूर्वक पूजा करते हैं। आज के दिन कन्या पूजन और हवन करने का भी विधान है। आज सुबह 09:36 बजे से रवि योग है। रवि योग में महानवमी है। आज गुरुवार के दिन आपको भगवान विष्णु और देव गुरु बृहस्पति की भी पूजी करनी चाहिए। उनकी पूजा से गुरु दोष समाप्त होता है। आज के पंचांग में शुभ मुहूर्त, राहुकाल, दिशाशूल के अलावा सूर्योदय, सूर्यास्त, चंद्रोदय, चंद्रास्त आदि के बारे में भी जानकारी दी जा रही है।

आज का पंचांग

दिन: गुरुवार, आश्विन मास, शुक्ल पक्ष, नवमी तिथि।

आज का दिशाशूल: दक्षिण।

आज का राहुकाल: दोपहर 01:30 बजे से 03:00 बजे तक।

आज का पर्व एवं त्योहार: दुर्गानवमी।

विक्रम संवत 2078 शके 1943 दक्षिणायन, उत्तरगोल, शरद ऋतु आश्विन मास शुक्ल पक्ष की नवमी 18 घंटे 53 मिनट तक, तत्पश्चात् दशमी उत्तराआषाढ़ा नक्षत्र 09 घंटे 35 मिनट तक, तत्पश्चात् श्रवण नक्षत्र धृति योग 25 घंटे 45 मिनट तक, तत्पश्चात् सूल योग मकर में चंद्रमा।

सूर्योदय और सूर्यास्त

आज महानवमी के दिन सूर्योदय प्रात:काल 06 बजकर 21 मिनट पर हुआ है, वहीं सूर्यास्त शाम को 05 बजकर 52 मिनट पर होगा।

चंद्रोदय और चंद्रास्त

आज महानवमी के दिन चंद्रोदय दोपहर 02 बजकर 25 मिनट पर होना है। चंद्र के अस्त का समय देर रात 01 बजकर 04 मिनट पर है।

आज का शुभ समय

रवि योग: आज सुबह 09 बजकर 36 मिनट से 15 अक्टूबर को प्रात: 06 बजकर 22 मिनट तक।

अभिजित मुहूर्त: आज दिन में 11 बजकर 44 मिनट से दोपहर 12 बजकर 30 मिनट तक।

विजय मुहूर्त: दोपहर 02 बजकर 02 मिनट से दोपहर 02 बजकर 48 मिनट तक।

अमृत काल: आज रात 11 बजकर 01 मिनट से देर रात 12 बजकर 35 मिनट तक।

आज आश्विन शुक्ल नवमी है। आज महानवमी के दिन आपको मां सिद्धिदात्री के मंत्रों का जाप करना चाहिए। गरुवार को विष्णु चालीसा, विष्णु सहस्रनाम का पाठ करना श्रेष्ठ होता है। आज आप कोई नया कार्य करना चाहते हैं तो शुभ मुहूर्त का ध्यान रखें।















Anjali Chandel
Anjali Chandel

www.hindustanpath.com