Current Date:13 Jun 2021


इस्लामी जिहादियों ने चलाईं ताबड़तोड़ गोलियां...100 लोगों की मौत...घरों और बाजार में लगाई आग

फासो के एक गाव में बीते शुक्रवार को सशस्त्र हमलावरों ने कम से कम 100 लोगों को गोलियों से भून दिया।

इस्लामी जिहादियों ने चलाईं ताबड़तोड़ गोलियां...100 लोगों की मौत...घरों और बाजार में लगाई आग
नियामे, 05 जून। पश्चिमी अफ्रीकी देश बुर्किना फासो के एक गाव में बीते शुक्रवार को सशस्त्र हमलावरों ने कम से कम 100 लोगों को गोलियों से भून दिया। बुर्किना फासो सरकार ने हमले की पुष्टि करते हुए कहा कि बंदूकधारियों ने कम से कम 100 लोगों की हत्या कर दी, पिछले कई सालों में यह देश में हुआ अब तक का सबसे बड़ा हमला है। इस अटैक में कई लोगों के घायल होने की भी सूचना है। सरकारी प्रवक्ता औसेनी तंबोरा ने जिहादियों को जिम्मेदार ठहराते हुए एक बयान में कहा कि हमला शुक्रवार शाम साहेल के याघा प्रांत के सोल्हान गांव में हुआ।
Also Read : Breaking : राज्य सरकार ने बड़े पैमाने पर किए आईएएस अफ़सरों के तबादले, इन्हें बनाया गया रायपुर कलेक्टर 
औसेनी तंबोरा ने आगे कहा, नाइजर की सीमा के करीब स्थानीय बाजार और कई घर को निशाना बनाकर उन्हें आग के हवाले कर दिया। बुर्किना फासो के राष्ट्रपति रोच मार्क क्रिश्चियन काबोरे ने इस हमले को बर्बर बताया। हमले में घायल हुए निगरिक को देखने अस्पताल पहुंचे उसके रिश्तेदार ने पहचान छिपाने की शर्त पर बताया कि उसके हॉस्पिटल में घुसते ही कई घायल लोगों को दर्द से कराहते हुए देखा। शख्स ने कहा, 'मैंने अस्पताल के एक कमरे में 10 लोगों को तो दूसरे कमरे में 12 लोगों को घायल अवस्था में देखा। कई लोग अपने घायल रिश्तेदारों की देखभाल कर रहे थे।
Also Read: सोना खरीदने का सबसे सुनहरा मौका...पिछले 9 महीने में अब तक का सबसे बड़ा डिस्काउंट, जानिए क्या है वजह 
आर्म्ड कॉन्फ्लिक्ट लोकेशन एंड इवेंट डेटा प्रोजेक्ट के वरिष्ठ शोधकर्ता हेनी नसाइबिया बताया कि बुर्किना फासो में हुआ अब तक का सबसे घातक हमला है। लगभग पांच साल पहले पश्चिम अफ्रीकी देश अल-कायदा और इस्लामिक स्टेट से जुड़े जिहादियों द्वारा कब्जा कर लिया गया था। यह स्पष्ट है कि आतंकवादी समूहों ने बुर्किना फासो पर अपना नियंत्रण बढ़ाने के लिए कमर कस ली है और अपने प्रयासों को उन क्षेत्रों में स्थानांतरित कर दिया है जो फ्रांस के नेतृत्व वाले आतंकवाद विरोधी गठबंधन की तत्काल पहुंच से बाहर हैं।
Also Read : केंद्र सरकार ने राज्य सरकार के इस योजना पर लगाई रोक...नाम बदलना न आया काम