Current Date:24 Oct 2021





दीपावली के बाद हो सकते है मप्र में पंचायत चुनाव!

मध्यप्रदेश में त्रि-स्तरीय पंचायत राज संस्थाओं (जिला जनपद और ग्राम पंचायत) के चुनाव दीपावली के बाद नवंबर के अंतिम सप्ताह में हो सकते हैं। राज्य निर्वाचन आयोग ने इसकी तैयारियों को अंतिम रूप देना प्रारंभ कर दिया है।

दीपावली के बाद हो सकते है मप्र में पंचायत चुनाव!


भोपाल : मध्यप्रदेश में त्रि-स्तरीय पंचायत राज संस्थाओं (जिला जनपद और ग्राम पंचायत) के चुनाव दीपावली के बाद नवंबर के अंतिम सप्ताह में हो सकते हैं। राज्य निर्वाचन आयोग ने इसकी तैयारियों को अंतिम रूप देना प्रारंभ कर दिया है। 21 अक्टूबर को राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने सभी कलेक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारियों की बैठक बुलाई है।

आयोग के सचिव बीएस जामोद ने बताया कि सामान्य प्रशासन विभाग की प्रमुख सचिव 'कार्मिक" को पत्र लिखकर कहा गया है कि राज्य निर्वाचन आयुक्त अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक करेंगे। इसके लिए कलेक्टरों को उपस्थित होने की अनुमति दी जाए। आयोग ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग से जिला पंचायत के अध्यक्ष व सदस्यता पद का आरक्षण करके सूचित करने के लिए कहा है। यह प्रक्रिया पूरी होते ही चुनाव कार्यक्रम घोषित कर दिया जाएगा।

माना जा रहा है कि खंडवा संसदीय क्षेत्र सहित पृथ्वीपुर, जोबट और रैगांव विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव की प्रक्रिया पूरी होते ही पंचायत चुनाव कराए जा सकते हैं। मालूम हो कि आयोग अपने स्तर पर प्रारंभिक तैयारी पूरी कर चुका है। एक दौर की बैठक भी हो चुकी है। अब इसे अंतिम रूप दिया जा रहा है। इसी के मद्देनजर 21 अक्टूबर को बैठक करके समीक्षा की जाएगी।

ईवीएम से होंगे जिला-जनपद पंचायत के चुनाव

जिला और जनपद पंचायत के सदस्यों के चुनाव ईवीएम से होंगे, जबकि ग्राम पंचायतों के चुनाव मतपत्र के माध्यम से कराए जाएंगे। प्रशिक्षण में अधिकारियों-कर्मचारियों को ईवीएम के संचालन और निर्वाचन संबंधी प्रविधानों की जानकारी दी जाएगी।

भोपाल : मध्यप्रदेश में त्रि-स्तरीय पंचायत राज संस्थाओं (जिला जनपद और ग्राम पंचायत) के चुनाव दीपावली के बाद नवंबर के अंतिम सप्ताह में हो सकते हैं। राज्य निर्वाचन आयोग ने इसकी तैयारियों को अंतिम रूप देना प्रारंभ कर दिया है। 21 अक्टूबर को राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने सभी कलेक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारियों की बैठक बुलाई है।

आयोग के सचिव बीएस जामोद ने बताया कि सामान्य प्रशासन विभाग की प्रमुख सचिव 'कार्मिक" को पत्र लिखकर कहा गया है कि राज्य निर्वाचन आयुक्त अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक करेंगे। इसके लिए कलेक्टरों को उपस्थित होने की अनुमति दी जाए। आयोग ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग से जिला पंचायत के अध्यक्ष व सदस्यता पद का आरक्षण करके सूचित करने के लिए कहा है। यह प्रक्रिया पूरी होते ही चुनाव कार्यक्रम घोषित कर दिया जाएगा।

माना जा रहा है कि खंडवा संसदीय क्षेत्र सहित पृथ्वीपुर, जोबट और रैगांव विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव की प्रक्रिया पूरी होते ही पंचायत चुनाव कराए जा सकते हैं। मालूम हो कि आयोग अपने स्तर पर प्रारंभिक तैयारी पूरी कर चुका है। एक दौर की बैठक भी हो चुकी है। अब इसे अंतिम रूप दिया जा रहा है। इसी के मद्देनजर 21 अक्टूबर को बैठक करके समीक्षा की जाएगी।

ईवीएम से होंगे जिला-जनपद पंचायत के चुनाव

जिला और जनपद पंचायत के सदस्यों के चुनाव ईवीएम से होंगे, जबकि ग्राम पंचायतों के चुनाव मतपत्र के माध्यम से कराए जाएंगे। प्रशिक्षण में अधिकारियों-कर्मचारियों को ईवीएम के संचालन और निर्वाचन संबंधी प्रविधानों की जानकारी दी जाएगी।

कम मतदान वाले केंद्रों में चलाया जाएगा जागरूकता अभियान

आयोग ने पंचायत चुनावों के मद्देनजर जागरूकता कार्यक्रम चलाने का निर्णय लिया है। अक्टूबर के अंतिम सप्ताह से यह प्रक्रिया प्रारंभ होगी। इसमें ईवीएम के प्रदर्शन के साथ वर्ष 2014 में कम मतदान वाले केंद्रों का आकलन करके जागरूकता अभियान चलाने, पंचायत चुनाव पर युवा संवाद कार्यक्रम, नुक्कड़ नाटक के साथ मेहंदी, लोकगीत, लोकनृत्य, चित्रकला प्रतियोगिताएं की जाएंगी।

आयोग ने पंचायत चुनावों के मद्देनजर जागरूकता कार्यक्रम चलाने का निर्णय लिया है। अक्टूबर के अंतिम सप्ताह से यह प्रक्रिया प्रारंभ होगी। इसमें ईवीएम के प्रदर्शन के साथ वर्ष 2014 में कम मतदान वाले केंद्रों का आकलन करके जागरूकता अभियान चलाने, पंचायत चुनाव पर युवा संवाद कार्यक्रम, नुक्कड़ नाटक के साथ मेहंदी, लोकगीत, लोकनृत्य, चित्रकला प्रतियोगिताएं की जाएंगी।















Anjali Chandel
Anjali Chandel

www.hindustanpath.com