Current Date:11 Apr 2021

सूरजपुर : सहकारी शक्कर कारखाने में किसानों के साथ धोखा...गन्ने की तौल में प्रति क्विंटल 5 किलो की चोरी... किसान की जागरूकता ने खोली शक्कर कारखाने की चोरी का पोल

सूरजपुर जिले के केरता महामाया सहकारी शक्कर कारखाने का है. जहां सहकारी शक्कर कारखाना में किसानों से गन्ने की वज़न कम तौलने पर किसान शकर कारखाने में हंगामा करने लगे

सूरजपुर : सहकारी शक्कर कारखाने में किसानों के साथ धोखा...गन्ने की तौल में प्रति क्विंटल 5 किलो की चोरी... किसान की जागरूकता ने खोली शक्कर कारखाने की चोरी का पोल
हिंदुस्तान पथ के लिए 'वेद तिवारी' के साथ 'धीरज सिहं राजपूत' की रिपोर्ट
अंबिकापुर!  प्रदेश सरकार किसानों के फ़सल की उचित मूल्य दिलाने का लाख दावे करे लेकिन सहकारी समिति सरकार के मंसूबों पर पानी फेरते नज़र आ रहे हैं. दरअसल पूरा मामला सूरजपुर जिले के केरता महामाया सहकारी शक्कर कारखाने का है. जहां सहकारी शक्कर कारखाना में किसानों से गन्ने की वज़न कम तौलने पर किसान शकर कारखाने में हंगामा करने लगे जैसे ही  हिंदुस्तान पथ डॉट कॉम की टीम को जानकारी लगी तो मौके पर पहुंच किसानों से उनकी समस्या को जानने की कोशिश की.



 आपको बता दें कि किसान बड़ी मेहनत कर गन्ना की फ़सल का उत्पादन करते हैं लेकिन प्रतापपुर के केरता में मां महामाया सहकारी शक्कर कारखाना में किसानों की उपज को किस तरह बंदरबांट किया जा रहा है..इस मामले का खुलासा तब हुआ जब एक जागरूक किसान ने शक्कर कारखाना में कांटा कराने से पहले प्राइवेट कांटा में वज़न कराया था उसके बाद  सहकारी शक्कर कारखाना केरता में हुआ तो वजन कम हो गया .
जिसके बाद जागरूक किसान हंगामा करने लगा और बताया कि 20 फरवरी को गन्ने से भरी उसकी दो ट्रकों का भी वज़न कम निकला है. वहीं इस मामले में कांटा घर के संबंधित अधिकारी राम संजीवन वर्मा ने टेक्निकल फाल्ट का हवाला देते हुए किसानों कि गन्ना प्रति क्विंटल 5 किलो कम तौल होने की बात कही है . 
किसानों के साथ छल :  रविंद्र तिवारी, किसान नेता एवं अध्यक्ष, संभागीय ट्रक मालिक संघ
हमेशा से ही विवादों में घिरा रहने वाला केरता सहकारी शक्कर कारखाना एक बार फिर सुर्ख़ियों में है ,किसानों ने आरोप लगाया है की गन्ने की खरीदी में तौल कांटा में छेड़छाड़ कर किसानों के साथ छल कर लाखों का चूना लगाया जा रहा है वहीं इस मामले के उजागर होने के बाद देखना होगा शासन प्रशासन जिम्मेदार अधिकारियों पर क्या कार्रवाई करता है या फिर किसानों की हालत जस की तस बनी रहेगी। किसान नेता एवं संभागीय ट्रक मालिक संघ के अध्यक्ष रविंद्र तिवारी ने शक्कर कारखाने में हो रहे घोटाले को लेकर बताया कि किसानों की गाढ़ी कमाई का शक्कर कारखाना प्रबंधन बंदरबांट कर रहा है. किसानों से प्रति टन 50 किलो अतिरिक्त गन्ना लिया जा रहा हैं.जिसमें शक्कर कारखाने में हो रहे करोड़ों रुपए के भ्रष्टाचार को दर्शा रहा है.
 इस मामले की नहीं है जानकारी :विद्यासागर सिंह अध्यक्ष शक्कर कारखाना
वहीं  मां महामाया सहकारी शक्कर कारखाना के अध्यक्ष ने मामले की जानकारी नहीं होने का हवाला देते हुए बताया कि गन्ना खरीदी  कार्य का नवंबर से शुरूआत किया गया  है.अभी तक करीब एक लाख 62 हजार मैट्रिक टन गन्ने की खरीदी की जा चुकी है.किसानों को 355 रुपए क्विंटल के हिसाब से भुगतान किया जा रहा है.जिसमें कारखाना की ओर से 270 रुपए का भुगतान किया जाता है वही बकाया बोनस के रूप में दिया जाता है .
अनिल तिर्की, एम डी, शक्कर कारखाना केरता
वहीं इस मामले में सहकारी शक्कर कारखाना के प्रबंध संचालक ने इलेक्ट्रॉनिक मशीन में टेक्निकल फाल्ट आने की बात कही... साथ ही ऐसी समस्या आने पर तत्काल ठीक कराने की बात कह कर आरोपों से बचते नजर आए.