Current Date:09 May 2021

सूरजपुर : पिता की ऐसी गुस्सा की अपने बेटी को उठाकर पटक दिया... ईलाज के दौरान हुई मौत...आरोपी पिता गिरफ्तार

सूरजपुर पुलिस ने हत्या के आरोपी पिता को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.

सूरजपुर : पिता की ऐसी गुस्सा की अपने बेटी को उठाकर पटक दिया... ईलाज के दौरान हुई मौत...आरोपी पिता गिरफ्तार
बिट्टू सिहं राजपूत@ सूरजपुर: पिता का गुस्सा इस कदर हावी हुआ की अपने पुत्री को उठाकर कर पटक दिया . जिससे युवती का ईलाज के दौरान मौत हो गई . रामानूजनगर थाना क्षेत्र के पतरापाली के सरईपारा निवासी विफल सिहं गुस्से में अपने पुत्री को 26 अप्रैल को उठाकर पटक दिया था . जिससे उसके सिर में गंभीर रूप से चोट लग गई . बीच बचाव करने गई मां को खरी खोटी सुनाते हुए कहा की तुम्हारे द्वारा चढ़ा कर रखा गया है .और अपने पुत्री का पैर और हाथ फकड़ कर उठा कर पटक दिया .मृतिका के मां रितेश्वरी सिहं ने थाना रामानूजनगर में 28 अप्रैल को इसकी शिकायत की .रितेश्वरी सिहं ने पुलिस को बताई की आरोपी मृतिका सुनिता को ऐसा झापड़ मारा था कि वो बेहोश हो गई बाद में बच्चे को लेकर हम मायके चली गई . दूसरे दिन उमापुर हास्पिटल ले जाकर इलाज कराये,  28 अप्रैल को सुनीता फिर बेहोश हो गई तब उसे पुनः अस्पताल ले जाया गया जहां वह ठीक नहीं हुई तब डाॅक्टर ने रामानुजनगर अस्पताल के लिए रिफर किया जहां जाने पर डाॅक्टर ने जांच कर बताया कि लड़की की मौत हो गई। पिता के द्वारा सुनीता को झापड़ से मारने व गुस्सा से पटकने के सिर, शरीर में अंदरूनी चोट लगने से मृत्यु हुई है. पत्नी के शिकायत पर रामानूजनगर पुलिस  मर्ग क्रमांक 38/21 कायम कर शव पंचनामा बाद पीएम कराया गया। पीएम रिपोर्ट में डाॅक्टर के द्वारा सिर में आई चोट से मौत होना बताये जाने पर आरोपी विफल सिंह के विरूद्व अपराध क्रमांक 86/21 धारा 302 भादवि का अपराध पंजीबद्व कर विवेचना में लिया गया। मामले की सूचना पर पुलिस अधीक्षक सूरजपुर राजेश कुकरेजा ने थाना प्रभारी को प्रकरण के आरोपी को जल्द गिरफ्तार करने के निर्देश दिए।
    एसडीओपी प्रेमनगर प्रकाश सोनी के मार्गदर्शन में थाना रामानुजनगर की पुलिस टीम ने ग्राम सरईपारा, पतरापाली निवासी आरोपी विफल सिंह पिता दुबराज सिंह उम्र 27 वर्ष को हिरासत में लिया। पूछताछ पर उसने अपराध करना स्वीकार किया जिसे विधिवत गिरफ्तार कर न्यायिक पर भेजा गया। 
इस कार्यवाही में थाना प्रभारी रामानुजनगर गोपाल धुर्वे, एएसआई रंजित सोनवानी, प्रधान आरक्षक अश्वनी पाण्डेय, आरक्षक संतोष ठाकुर, रविशंकर साहू, वेदप्रकाश राजवाड़े, देवान सिंह, दीपक यादव व अनुज यादव सक्रिय रहे।