Current Date:13 Jun 2021


अप्रैल मई में होना था, प्री मानसून की बारिश के साथ ठेकेदार ने शुरू कराया गोबरी जलाशय का गहरीकरण कार्य

मामला जनपद पंचायत बैकुन्ठपुर के अंतर्गत ग्राम पंचायत बरदिया स्थित गोबरी जलाशय गहरीकरण का, 3.5 करोड़ रूपए की राशि से गहरीकरण होना है, देर से गहरीकरण काय्र शुरू होने से क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों व ग्रामिणों में आक्रोश व्याप्त है।

अप्रैल मई में होना था, प्री मानसून की बारिश के साथ ठेकेदार ने शुरू कराया गोबरी जलाशय का गहरीकरण कार्य

पटना (कोरिया) बारिश सिर पर है, जलाशयों की मेढ़, स्लूस गेट, वाल्व, बरसात के समय होने वाले सिपेज का आवश्यक सुधार कार्य करने के बजाए गहरीकरण जैसे कार्य गर्मी के दिनों में कराना चाहिए लेकिन क्षेत्र के गोबरी जलाशय में 3.5 करोड़ की लागत से गहरीकरण के कार्य को प्री मानसून शुरू होने के बाद शुरू कराया गया है। उसमें भी 2 ट्रैक्टर और एक जेसीबी लगाकर गहरीकरण कार्य कराने की औपचारिकता पूरी की जा रही है।

बता दें कि पटना क्षेत्र के ग्राम पंचायत बरदिया में स्थित गोबरी जलाशय के गहरीकरण का कार्य अप्रैल एवं मई महिने तक पूरा हो जाना था लेकिन जिस ठेकेदार को गहरीकरण का ठेका मिला है उसने प्री मानसून शुरू होने के बाद गहरीकरण का कार्य शुरू किया है जिससे जलाशय का गहरीकरण तो नहीं हो पाएगा लेकिन जलाशय में पानी भर जाने के बाद कागजों में गहरीकरण कार्य पूरा होना दर्शाकर शासकिय राशि का दुरूपयोग किया जा सकता है ऐसी संभावना व्यक्त करते हुए बरदिया, करहियाखांड़ के किसान व ग्रामिणों के साथ साथ क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों के द्वारा इस समय गहरीकरण के कार्य को रोक कर जलाशय की मेढ़, स्लूस गेट, वाल्व का सुधार कार्य करा जाने एवं गहरीकरण का कार्य गर्मी के दिनों में कराए जाने की मांग की जा रही है।   

मिली जानकारी के मुताबिक 45 वर्ष पुराने गोबरी जलाशय में बरसात के समय हर साल पहाड़ व नाला के रास्ते बहकर आने वाले मिट्टी से जलाशय पटता जा रहा है जिससे जलाशय में पानी भराव की क्षमता कम हो गई है, लंबे समय के जलाशय के गहरीकरण की मांग की जा रही थी जिसे ध्यान में रखकर गोबरी जलाशय के गहरीकरण के लिए 3.5 करोड़ राशि स्वीकृत हुआ है और गहरीकरण का कार्य ठेके पर दे दिया गया है जिससे कि जलाशय का गहरीकरण अच्छे से हो सके और पानी का ज्यादा से ज्यादा भराव हो सके पर सबसे आश्चर्य की बात यह है कि ठेकेदार व विभाग की मिली भगत से जिस काम को अप्रैल में शुरू होना था वह काम जून में शुरू हो रहा है, जबकि सबको पता है कि कुछ दिनों में मानसूनी बारिश होगी हालांकी इन दिनों प्रीमानसून की झमाझम बारिश क्षेत्र में हो रही है ऐसे में गहरीकरण का कार्य बारिश के पानी के कारण बाधित हो जाएगा। यहां तक कि गहरीकरण कार्य की नापी भी नहीं हो पाएगी ठेकेदार ने कछुए की चाल में एक जेसीबी व दो ट्रैक्टर लगाकर खुदाई शुरू की है जबकि बड़ी मशीनें व ट्रक लगाकर खुदाई करनी थी ताकि ज्यादा से ज्यादा खुदाई हो सके ठेकेदार पर आरोप है की सिर्फ काम शुरू हो गया है यह दिखाने के लिए काम चालू किया। फिलहाल मानसून समय से पहले बरसने को तैयार है, साढ़े तीन करोड़ रुपये का काम होना है वह भी जलाशय के गहरीकरण का जो किसी भी हाल में पूरा नही हो सकता यह विभाग भी जानता है और ठेकेदार भी ऐसे में विभाग को फिलहाल काम को रोक देना चाहिए। काम रोककर अब अगले वर्ष गहरीकरण का काम शुरू किए जाने की ग्रामीण लोग भी मांग कर रहें हैं। लोगों का कहना है गोबरी जलाशय कई गांवों को सिंचाई का मुख्य आधार है और इसका गहरीकरण भी जरूरी हो चुका है लेकिन इसे बरसात के बाद ही किया जाय तो बेहतर होगा।



Naresh Kumar Yadav
Naresh Kumar Yadav

Bureau Chief Koriya Chhattisgarh