Current Date:03 Mar 2021

कुंवरपुर जलाशय परिसर की खुबसूरती हुआ विरान में तब्दील...जिम्मेदार कुंभकर्णी निंद में

लखनपुर के कुंवरपुर में पांच दशक पूर्व सन 1972- 73 में बने जलाशय परियोजना आज विभागीय उपेक्षा का दंश झेल रहा है।

कुंवरपुर जलाशय परिसर की खुबसूरती हुआ विरान में तब्दील...जिम्मेदार कुंभकर्णी निंद में
मुन्ना पांडेय@ लखनपुर- लखनपुर के कुंवरपुर में   पांच दशक पूर्व सन 1972- 73 में बने जलाशय परियोजना आज विभागीय उपेक्षा का दंश झेल रहा है। बद- इतजामी झलकने लगा है  देखरेख के अभाव में बांध परिसर तक आवागमन के नजरिए से बनाया गया सड़क खस्ताहाल तथा  हरा-भरा बागीचा  बेतरतीब विरान नजर आने लगा है। वहीं  सुगंधित फूलों तथा फलदार  पेड़ों से सुसज्जित बाग बांध मेड के उपर पूर्व में किये गये लाइटिंग व्यवस्था तबाह एवं बर्बाद हो कर रह गए हैं।  साथ ही साफ-सफाई का अभाव साफ तौर पर झलकने लगा है।  बांध परिसर विरान नजर आने लगा है । कभी बांध परिसर में आकर पर्यटक खूबसूरती का लुत्फ उठाते थे आज विरानियो ने डेरा जमा रखा है।  कुछ असमाजिक तत्वों ने बांध मेंढ के उपर लगे रेलिंग को तोड़कर नुकसान पहुंचाया है, वहीं बीजली खम्भो से  बल्ब तार चोरी कर ले गए  परन्तु  विभागीय स्तर से रखरखाव के पुख्ता इंतजाम लम्बे अन्तराल के बाद भी  नहीं किया जा सका है  इतना ही नहीं बांध से जुड़े कुंवरपुर मुख्य नहर में  सी सी लाइनिंग का कार्य कराया तो गया है परन्तु लखनपुर  माईनर में लाइनिंग कार्य बाक़ी है।  जिससे  नहर मेड कई स्थानों से टुटे फुटे बदहाल नजर आने लगे हैं । क्षेत्र के किसानों की मानें तो मुख्य एवं सहायक नहर में साफ-सफाई के साथ मरम्मत तथा क्रासिंग पुल निर्माण   कराया जाना बेहद जरूरी है । विभाग इस ओर ध्यान नहीं दे रहा। प्रत्येक वर्ष बांध एवं नहर मेड रखरखाव साफ-सफाई मरम्मत के नाम पर आने वाली शासकीय राशि का बन्दर बांट किया जाना क्षेत्र के किसानों के समझ के परे है। बहरहाल कुंवरपुर जलाशय परिसर में पुर्ववत सौंदर्यीकरण सड़क निर्माण साफ-सफाई  कराये जाने क्षेत्रवासियों ने शासन प्रशासन का ध्यानाकर्षण कराया है।