Current Date:04 Aug 2021




बेरोजगार युवक ने गीत गाकर सरकार से की रोजगार की मांग, कहा - "नौकरी मोर दे दे तैं नई तो फांसी देदे तैं मोला"

जिले के एक बेरोजगार युवक ने वीडियो बनाकर सरकार से नौकरी देने या फिर मौत देने की मांग की है।

बेरोजगार युवक ने गीत गाकर सरकार से की रोजगार की मांग, कहा - "नौकरी मोर दे दे तैं नई तो फांसी देदे तैं मोला"


बलौदाबाजार। जिले के एक बेरोजगार युवक ने वीडियो  बनाकर सरकार से नौकरी देने या फिर मौत देने की मांग की है। बेरोज़गारी के कारण युवक के परिवार को आर्थिक स्थिति भी खराब हो गई है।



युवक जितेंद्र बार्वे ने छत्तीसगढ़ की भरथरी शैली में गीत गाकर एक वीडियो रिकॉर्ड कर सरकार से रोजगार देने की मांग की है। शिक्षक भर्ती की अटकी प्रक्रिया से तंग आकर अपनी भाभी संतोषी के साथ इस गाने को जितेंद्र ने गाया है। इस गाने की लाइनों में जितेंद्र कह रहे हैं ढाई साल ले सुध नई लेस का होगे कका(भूपेश बघेल) तोला, नौकरी मोर दे दे तैं नई तो फांसी देदे तैं मोला। 

जितेंद्र के परिवार की माली हालत ठीक नहीं है। उनकी मां के पैरों में हमेशा दर्द रहता है। पिछले कुछ महीनों से उनकी तकलीफ बढ़ गई है। इलाज करवाने के पैसे नहीं होने के कारण मजबूरी में मां को भिलाई में बहन के घर भेजना पड़ा। 11 सदस्यों के परिवार में अकेला कामकाजी जितेंद्र साल 2020 से बेरोजगार है। सरकारी शिक्षक के तौर पर सलेक्शन हो चुका है मगर सरकार नियुक्ति नहीं दे रही। काम नहीं है तो परिवार का पेट भरने के लिए पैसे नहीं हैं। बैंक से लोन, गांव में रिश्तेदारों से उधार और कुछ सामाजिक संगठनों से आर्थिक मदद लेकर ये दो वक्त की रोटी का इंतजाम कर रहे हैं।

जितेंद्र पिछले 15 सालों से प्राइवेट स्कूल में गणित पढ़ा रहे थे। इनके पढ़ाए 30 स्टूडेंट्स का सलेक्शन नवोदय विद्यालय में हुआ, जितेंद्र खुद क्रिएटिव कंटेंट लिखते हैं, गाते हैं, बच्चों को गाने और गीत के जरिए कुछ नया सिखाते हैं, मगर इस टैलेंट पर बेरोजगारी का जंग लग रहा है।

जितेंद्र ने कहा कि सरकार स्वामी आत्मानंद स्कूल में भर्ती कर रही है, शिक्षकों के परिवार को अनुकंपा नियुक्ति दे रही है। हमारी बारी जब आती है तो स्कूल बंद होने की बात कह दी जाती है। ये तो दोहरा रवैया हुआ।
Nishu Sharma
Nishu Sharma

News Editor